14
-
No icon

Donald Trump on North Korea

दुनिया में नॉर्थ कोरिया की बढ़ती तानाशाही पर ट्रंप का बड़ा बयान

8

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संकल्प किया कि वे नॉर्थ कोरिया की तानाशाही को 'परमाणु ब्लेकमेल' के जरिए दुनिया को बंधक नहीं बनाने देंगे. इसके साथ ही उन्होंने फैसला किया कि प्योंगयांग का परमाणु निरस्त्रीकरण करने के लिए ज्यादातर वैश्विक दबाव बनाएंगे .

गौरतलब है कि सितंबर के महीने में नॉर्थ कोरिया द्वारा सबसे बड़ा परमाणु परीक्षण करने के बाद कोरियाई प्रायदीप में तनाव ज्यादा बढ़ गया है. एशिया की 12 दिवसीय पहली यात्रा के बाद राष्ट्र को संबोधन में ट्रंप ने कहा कि नॉर्थ कोरिया उनकी प्राथमिकता सूची में सबसे ऊपर है.

ट्रंप ने हाल में चीन की यात्रा के दौरान कहा था कि चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने नॉर्थ कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को लागू करने और कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण के साझा लक्ष्य को हासिल करने के लिए नॉर्थ कोरिया सरकार पर अपने आर्थिक प्रभाव का इस्तेमाल करने का भरोसा दिलाया था.

ट्रंप ने कहा कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने स्वीकार किया कि नॉर्थ कोरिया , चीन के लिए बड़ा खतरा है. ट्रंप ने कहा कि हम इस बात पर सहमत हुए हैं कि हम तथाकथित 'फ्रीज फॉर फ्रीज' समझौते को स्वीकार नहीं करेंगे. ऐसे समझौते अतीत में लगातार विफल हुए हैं. उन्होंने कहा, हमारा मानना है कि समय बीत रहा है और हमारे सामने सभी विकल्प खुले हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने दक्षिण कोरिया की नेशनल असेंबली को संबोधित करते हुए स्पष्ट कर दिया है कि हम नॉर्थ कोरिया की विकृत तानाशाही को परमाणु ब्लेकमेल के जरिए दुनिया को बंधक नहीं बनाने देंगे. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने चीन और रूस समेत सभी राष्ट्रों से नॉर्थ कोरिया को तब तक अलग-थलग करने और उससे सारे व्यापारिक संबंध तोड़ने के लिए भी कहा है.

9

Comment

10